Webinar on Teachers Day by Brahma Kumaris Mohali

Mohali ( Punjab ): A webinar was organised on Teacher’s Day in which BK Pius  from Delhi; Dr. Harjeet Kaur, Principal, Rattan Professional Education college; BK Meena, Rajyoga Teacher, Mohali; and Mrs. Anjali Sharma, Principal, St. Soldier International Convent School, were honourable speakers.

BK Prem said in her inspirational address that there is a wealth of infinite skills, qualities and power in the conscience of human beings, and Rajayoga Meditation is an effective tool to utilize these skills properly, which is being taught by the Supreme Teacher Supreme Soul Himself.
News in Hindi:

मोहाली में ब्रह्माकुमारीज़ ने शिक्षक दिवस पर आयोजित किया वेबीनार
मोहाली: ब्रह्माकुमारीज़ की अंतरराष्ट्रीय संस्था द्वारा कल सांय यहां शिक्षक दिवस पर एक वेबीनार का आयोजन किया गया जिसमें दिल्ली से मोटीवेशनल स्पीकर राजयोगी ब्रह्माकुमार पीयूस, रत्न प्रोफेस्नल एजुकेशन कालेज मोहाली की प्रिंसिपल डाक्टर हरजीत कौर सरा, राजयोग शिक्षिका बी.के. मीना, सेंट शोल्जर इंटरनेशनल कानवेंट स्कूल मोहाली की प्रिंसीपल अंजली शर्मा ने माननीय वक्ताओं के रूप में भाग लिया तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता मोहाली-रोपड़ क्षेत्रा के राजयोग केंद्रों की
निर्देश्किा राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी प्रेमलता बहन जी ने की।

राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी प्रेमलता बहन जी ने अपने प्रेरणादायी उद्बोध्न में शिक्षकों को आज के दिवस की वधई दी और कहा कि महापुरूषों ने कहा है कि कोई भी राष्ट्र का निर्माण क्लासरूम में होता है नकि पार्लियामेंट में । मानव के अंतःकरण में अनंत कौशल, गुणों व शक्तियों का खजाना है केवल उन्हें पहचान कर सदुपयोग करने की जरूरत है । राजयोग इस संदर्भ में कारगर यंत्रा है जिसे सिखाने का कार्य स्वयं परमशिक्षक परमात्मा शिव कर रहे हैं । उन्होने राजयोग की व्याख्या कर उसकी
गहन अनूभूति करवाई जिससे शंाति, प्रेम, सद्भावना, शक्ति, दिव्य बुद्वि व कार्यकुशता बढ़ती है ।
मोटीवेशनल स्पीकर राजयोगी ब्रह्माकुमार पीयूस ने मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए कहा कि वर्तमान समय लोगों की सोच सकारात्मक कम व नकारात्मक ज्यादा है जिसे बदलने हेतू उसे सवेरे जल्दी उठने की आदत बनानी होगी । आमतौर पर व्यक्ति प्रतिदिन 60000 विचार पैदा करता है जिनमे से 80 प्रतिशत भूतकाल के नकारात्मक व 15 प्रतिशत भविष्य की चिंता के होते हैं वास्तव में उसे वर्तमान के सकारात्मक विचारों में जीना चािहए । उन्होंने रात्रि 10 बजे सोने व प्रातः 4 बजे उठने का लक्ष्य दिया । उन्होने रात्रि सोने से एक घंटा पहले मोबाईल, टी.वी., अखबार आदि बंद कर प्रभू चिंतन करके गहन निद्रा में विश्राम की सलाह दी । उठते ही प्रातः एक घंटा आत्म चिंतन कर सशक्त बने व घर को क्रोध्भुक्त क्षेत्रा बनाये तथा स्कूल या कार्यस्थल को प्रसन्नचित क्षेत्रा बनाकर जीवन को सकारात्मक सोच से भरें ।

राजयोग शिक्षिका बी.के.मीना बहन ने कहा कि शिक्षक दिवस उन्हें सम्मानित करने का दिवस है क्योंकि इस वर्ग के कंधें पर समाज उत्थान की बड़ी जिम्मेवारी है । शिक्षकों ने चुनौती भरे करोना संकट में भी सराहनीय कार्य किया है ताकि बच्चों की पढाई पर असर न पड़े, इसलिए शिक्षकों ने विज्ञान की नई तकनीक संे उनक पढ़ाई आनलाईन, वेबीनार आदि के द्वारा जारी रखी
श्रीमति अंजली शर्मा व डा. हरजीत कौर सरा ने शिक्षकों को उत्साही सिपाही बताया जिन्होने कोविद -19 महामारी जैसी स्थिति का बखूबी सामना कर शिक्षा के नये ढंगों को खोजे ताकि भविष्य में भी ऐसी चुनौतियों का सामना कर सके । इनके सशक्तिकरण व प्रशिक्षण की ओर अध्कि ध्यान दिया जाना चाहिए ।

शिक्षक दिवस पर वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका ब्रह्माकुमारी प्रेमलता बहन जी को मोहाली केंद्र के ईश्वरीय विद्यार्थियों ने पुष्पों से सम्मानित किया ।