Tree Plantation on Universal Brotherhood Day by Brahma Kumaris Khimlasa

A Tree plantation was organised to celebrate Universal Brotherhood day on the premises of the Electricity Board. A Floral tribute was paid to Former Chief Administrator Dadi Prakashmani on her 13th sacred Remembrance Day.

Bina ( Madhya Pradesh ):  The 13th sacred remembrance day of Former Chief Administrator of Brahma Kumaris was celebrated as Universal Brotherhood day in the Bina, Khurye, and Khimlasa Centres.

In Khimlasa, for this occasion, a Tree Plantation was organised to pay a floral tribute to Dadiji. Centre-in-charge BK Janki shared that Dadi ji left her mortal coil on 25th August 2007. Her untiring efforts and dedication took the Brahma Kumaris organisation to unprecedented heights. Her whole life was a life of surrender. Dadi ji was an epitome of affection, motherhood and mercy. Her daily practice of Rajayoga meditation had given her so much spiritual power that it was experienced by anyone who come in contact with her. BK Janki shared that BK sisters and brothers had organised special meditation in the early hours of the morning to pay homage to Dadi ji and later everyone took a pledge to follow the path she had shown.

Fruit trees were planted on the premises of the Electricity board in the presence of officers and employees. Each plant was named after the divine values Dadi ji exhibited in her lifetime.

Bhog (divine food) and masks were then distributed. BK Ruchi, Mukesh Bhai, Ram Narayan sahu and many other officers of the Electricity Board were present to grace this occasion.

News in Hindi:

विश्व बंधुत्व दिवस पर बिजली कंपनी परिसर में किया पौधारोपण
– ब्रह्माकुमारीज की पूर्व मुख्य प्रशासिका दादी प्रकाशमणि के 13वें पुण्य स्मृति दिवस पर आयोजन, पुष्प अर्पित कर दी श्रद्धांजली
बीना: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की पूर्व मुख्य प्रशासिका दा1दी प्रकाशमणि का 13वां पुण्य स्मृति दिवस विश्व बंधुत्व दिवस के रूप में बीना, खुरई और खिमलासा सेवाकेंद्र पर मनाया गया। इस दौरान खिमलासा, बिजली कंपनी के कार्यालय परिसर में दादीजी के याद में पौधारोपण कर श्रद्धांजली अर्पित की गई।
सेवाकेंद्र संचालिका बीके जानकी दीदी ने बताया कि 25 अगस्त 2007 को दादी अपना पुराना शरीर छोड़ अव्यक्त हो गईं थीं। दादी जी ने अथक परिश्रम, मेहनत, सेवा और लगन से ब्रह्मकुमारीज संस्थान को नई ऊंचाईयां दी। आपका पूरा जीवन मानव समाज की सेवा के लिए समर्पित रहा। दादी करुणा, ममता और इश्नेह की मूरत थीं। दादी ने खुद को योग तपस्या से इतना परिपूर्ण और शक्तिशाली बना लिया था कि उनके संपर्क में आने वाला हर एक व्यक्ति ऊर्जावान और दिव्य आभा की शक्ति को महसूस करता था।
बीके जानकी दीदी ने बताया कि दादी के पुण्य स्मृति दिवस के उपलक्ष्य में संस्थान से जुड़े भाई बहनों से ब्रह्ममुहूर्त से ही विशेष योग- तपस्या कर उन्हें श्रद्धांजली अर्पित की। साथ ही दादी जी के बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया। इसके साथ ही बिजली कंपनी के ऑफिस परिसर में अधिकारियों, कर्मचारियों की उपस्थिति में फलदार पौधों का रोपण किया गया। साथ ही प्रत्येक पौधे को दादीजी के जीवन में व्याप्त जीवन गुणों का नाम दिया गया। बाद सभी श्रद्धांजली अर्पित कर सभी को भोग, मास्क का वितरण किया गया।
इस मौके पर बीके रुचि बहिन, मुकेश भाई, रामनारायण साहू सहित बिजली कंपनी के अधिकारी गण मौजूद रहे।