“Rajayoga taught by Brahma Kumaris gives peace of mind” – Member of Parliament Addresses “International Yoga Day” Webinar

“International Yoga Day” Webinar at Gyan Shikhar Om Shanti Bhawan by Brahma Kumaris, Indore

Indore ( Madhya Pradesh ): BK Anita, Indore Centre in Charge, arranged a talk on “Rajayog – A Unique Experiment,” on the eve of International Yoga Day in which Honourable MP Mr. Shankar Lalwani of Indore; Dr. Bharat Rawat, Heart Specialist of Medanta Hospital Indore; Professor Kamal Dixit, Senior Journalist; BK Surya, Yoga Specialist; Dr. Satish Gupta, Heart specialist; BK Usha, Senior Rajayoga Teacher; BK Shivani, Life Management Expert; BK Hemlata, Zonal Coordinator of Indore; BK Sarla, Vice-Chairperson of Rural and Agriculture Wing from Mehsana, and Mr. Mukesh Nima, Businessman of Narsingpur, were the main Speakers.

Mr. Shankar Lalwani, Member of Parliament, said that Yoga in Bharat is followed since time immemorial and it has been observed for the few years as International Yoga Day. The Rajayoga taught by Brahma Kumaris gives peace of mind and teaches us to live tension-free during difficulties.

BK Surya highlighting on, “Mind Empowerment and Solutions of all Problems Through Rajayoga” said that Rajayoga is a medium by which we get directly connected by our Mind and Intellect with God Almighty, Supreme Soul. This empowers our Mind, Spiritual Power enhances and mental tensions get relieved. Presently while the entire world is living with fear of the corona virus pandemic, connection by Rajayoga with God acts as a Safety Cover for us and it saves us from negative thoughts, depression, fear and unsafe feelings.

BK Shivani stated that to face the present situation, for Self, for Nation and to make this World as the Golden Aged one, we are needed to adopt the lifestyle of a Yogi. It means life full of Positive Energy. For this, sit for one hour in the morning with your family to do Meditation, contemplate on Spiritual subjects and do Yogasana, Pranayama, etc., so that Body and Mind can remain healthy.

BK Hemlata said, “We must pay attention to four aspects — Physical, Mental, Spiritual and Social — in life to remain completely healthy. Out of all these, Spiritual Health is most important because if Mind is strong it can manage with weak Body, actions become nobler that make Society healthy. So now Spiritual Knowledge and ancient Indian Rajayoga are required to be made a part of life.

Dr. Satish Gupta said that 30% people are dying due to heart attack. The reason is the present day’s lifestyle full of tensions. Rajayoga Meditation renders our thoughts and feelings positive, thereby life gets filled with happiness and we can win over disease of heart attack.

BK Sarla mentioned that Nature also realizes our feelings. Our positive thoughts and its selfless vibrations render Nature and animals peaceful, healthy and clean.

Dr. Bharat Rawat said that we can cure many ailments by Yoga and Pranayam. There are no side effects and it is very easy, comfortable and a cheaper solution to be healthy.

Professor Kamal Dixit said that by empowering mind through Rajayoga we can get rid of many bad habits and working skills also are improved.

Mr. Mukesh Nima shared the transformation of life he received through Yoga.

BK Usha while explaining the true meaning of Yoga, guided all in experiencing Peace deeply.

All the residents of Om Shanti Bhawan sat in front of the globe and spread vibrations of Peace and Power to the world.

BK Yugratan from Durg, Chhattisgarh, expressed his feelings through his songs.

BK Anita presided over the Webinar function.

News in Hindi:

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में ब्रह्माकुमारीज के द्वारा आॅनलाईन वेबीनार सम्पन्न

भय असुरक्षा, डिप्रेशन आदि मानसिक बीमारीयों से बचने का सुरक्षा कवच है राजयोग

इंदौर: अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के क्षेत्रीय मुख्यालय ज्ञानशिखर ओम शान्ति भवन में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की पूर्व संध्या पर ”राजयोग- एक अनूठी प्रयोगशाला” विषय पर वेबीनार का आयोजन किया गया, जिसमें विशेष रुप से संस्था के मुख्यालय माउंट आबू से योग विशेषज्ञ वरिष्ठ राजयोगी ब्रह्माकुमार सूर्य भाई ने ’’राजयोग द्वारा मन का सशक्तिकरण औेर सर्व समस्याओं का समाधान” विषय पर प्रकाश डालते हुए बताया कि राजयोग एक ऐसा योग जिसके माध्यम से हम मन और बुद्धि द्वारा डायरेक्ट सर्व सर्वशक्तिमान परमात्म से जुड़ते हंै, परमात्मा की शक्ति मिलने से हमारा मनोबल बढने लगता है और जिससे हमारा मनोबल बढ़ने लगता है।

आगे आपने बताया कि राजयोग से आध्यात्मिक शक्ति बढ़ती है एवं मानसिक तनाव से मुक्ति मिलती है। वर्तमान समय जबकि समूचा विश्व ‘कोरोना‘ जैसी संक्रामक बीमारी से भयभीत होकर जीवन जी रहा है  ऐसे समय में  राजयोग द्वारा परमात्म सानिध्य हमारे लिए सुरक्षा कवच का कार्य करता है। भय, असुरक्षा डिपरेशन आदि नकारात्मक वृत्तियों से बचाता है।

इस अवसर पर सुप्रसिद्ध जीवन प्रबंधन विशेषज्ञा ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी ने कहा वर्तमान परिस्थिति का सामना करने के लिए , अपने लिए , देश के लिए  और इस सृष्टि को एक स्वर्णिम युग बनाने के लिए हमें योगी जीवन शैली को अपनाने की जरुरत है। योगी जीवन अर्थात् जहंा मन एक सकारात्मक उर्जा से भरपुर हो। इसके लिए सुबह का 1 घण्टा परिवार के साथ मिलकर परमात्मा का ध्यान करें, आध्यात्मिक चिंतन करे एवं योगासन, प्राणायाम आदि करें, ताकि तन और मन दोनों स्वस्थ रहें।

इंदौर जोन की मुख्य क्षेत्रीय समन्वयक ब्रह्माकमारी हेमलता दीदी ने बताया कि सम्पूर्ण स्वास्थ रहने के लिए जीवन के ये चारों ही शारीरिक , मानसिक , सामाजिक और आध्यात्मिक पहलू पर ध्यान देना होगा। लेकिन इन सबमें आध्यात्मिक स्वास्थ्य अति महत्वपूर्ण है क्योकि अगर मन शक्तिशाली है तो वह कमजोर तन को भी चला लेता है, कर्मो में भी श्रेष्ठता आ जाती जिससे सामाजिक स्वास्थ्य भी अच्छा हो जाता है । तो आज आवश्यकता है आध्यात्मिक ज्ञान और भारत के प्राचीन राजयोग को जीवन का हिस्सा बनाने की ।

माउंट आबू के वरिष्ठ हृद्य रोग विशेषज्ञ डाॅ. सतीश गुप्ता ने बताया कि आज 30 प्रतिशत लोगों की मृत्यु हार्ट अटैक से हो रही है। इसका कारण आज की तनाव युक्त जीवन शैली है । मेडिटैशन हमारे मन के विचार एवं भावनाओं को सकारात्मक बनाता है जिससे जीवन खुशहाल बन जाता है और हार्ट की बीमारी पर हम विजय प्राप्त कर लेते हैं।

संस्था के कृषि एवं ग्राम विकास प्रभाग की राष्ट्रीय अध्यक्षा ब्रह्माकुमारी सरला दीदी, मेहसाणा ने बताया कि  प्रकृति भी हमारी भावनाओं को महसूस करती है। हमारे सकारात्मक चिंतन और उनसे निकलते हुए निःस्वार्थ  प्रकम्पन्न प्रकृति और पशुओं को भी शांत, स्वस्थ ओर स्वच्छ बनाते हैं।

इंदौर के सांसद माननीय शंकर लालवानी ने बताया कि योग भारत में अनादि काल से चला आ रहा है पर पिछले कुछ वर्षो से इसे अतंर्राष्ट्रीय योग दिवस के रुप में मनाया जा रहा है। ब्रह्माकुमारी द्वारा सिखाया जा रहा राजयोग मन को शांति एवं समस्याओं में तनाव मुक्त रहना सिखाता है।

इंदौर मेदांता हाॅस्पिटल के वरिष्ठ हृद्य रोग विशेषज्ञ डा. भरत रावत ने कहा कि हम योग प्राणायम से अनेक बीमारीयो को ठीक कर सकते है और इसका कोई साइड इफेक्ट नही है स्वास्थ रहने का बहुत सहज, सरल और सस्ता उपाय है।

वरिष्ठ पत्रकार प्रो. कमल दीक्षित ने कहा कि राजयोग के द्वारा मन को सशक्त बनाकर कई गलत आदतों से मुक्त हो सकते है एवं कार्य क्षमता में वृद्धि होती है। नरसिंहपुर के (प्रसिद्ध व्यवसायी) मुकेश नीमा ने  योग के द्वारा जीवन में आये  परिवर्तन को साझा किये।वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका ब्रह्माकुमारी उषा बहन ने योग का सही अर्थ समझाते हुए सभी को  विशेष गहन शांति की अनुभूति कराई। ओमशान्ति भवन में रहने वाले सभी भाई बहनों ने विश्व ग्लोब के सामने बैठकर शांति और शक्ति के प्रकम्पन्न फैलाये।  दूर्ग छत्तीसगढ़ से ब्रह्माकुमार युगरतन ने गीत के माध्यम से अपनी दिल की भावनाओं को व्यक्त किया ।

कार्यक्रम का सचालन वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका ब्रह्माकुमारी अनिता बहन ने किये।