Lecture Series on “Water Conservation” by Brahma Kumaris, Hathras

Anand Puri, Hathras (Uttar Pradesh): There is a proverb that “Whoever destroys time, one day time will destroy them”, but simultaneously in the world of portable water with the concern over the declining water level, it is said that the if water is destroyed, one day the water will destroy them, they will go crazy for water. Those who have been wasting water for free, they should understand the cost of water.

This was stated by BK Shanta ( Center Incharge of Brahma Kumaris Shanti Bhawan center, located at Aligarh Road), specially to students on the occasion of a lecture series on Water Conservation organised at Happy Home School.

Earlier in his remarks on the picture exhibition created by the water department of Brahma Kumaris to highlight the importance of water conservation, BK Dinesh  spoke about the use and significance of water in the life  and said that for every part of the body water is needed. In the human brain, 75 percent of water is found in the brain, so students should use the maximum amount of water to enhance their memory especially during examinations. BK Gajanendra  provided inspiration to students on how to conserve the overflow of water tank in their respective homes by using “Water Alert Bell” that can save the water from being spoiled due to overflow of water tank.

After filling the tank with the submersible pump, and keeping the commitment of saving the water from spoiling and not to keep the tap open, BK Shanta  gave inspiration to decorate the mind with divine qualities.

While applauding Brahma Kumari’s water conservation program and services being done for social upliftment from time to time, Manager Bijender Sharma expressed gratitude and told all children of the school that they are quite responsible and will make promise to save water and thus give contribution to the society.

It is known that Brahma Kumaris are making aware of Water conservation by organizing programs in schools, colleges, government and non-governmental organizations.

News in Hindi:

कहावत तो यह है कि “जो समय को नष्ट करता है एक दिन समय उसे नष्ट कर देता है लेकिन इसके साथ ही पीने योग्य जल की संसार में लगातार होती कमी और गिरते हुए जल स्तर पर चिन्ता व्यक्त करते हुए बताया गया कि जो जल को नष्ट करेंगे एक दिन जल उन्हें नष्ट कर देगा। वे पानी के लिए तरस जायेंगे। पानी को मुफ्त का माल समझकर उसे व्यर्थ बहाने वालों को अव समझ आ जाना चाहिए कि जल की कीमत क्या होती है। कुछ इस प्रकार की अभिव्यक्ति प्रजापिता ब्रहमाकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के अलीगढ़ रोड स्थित शान्ति भवन, आनन्दपुरी कालोनी केन्द्र की राजयोग शिक्षिका बी.के. शान्ता बहिन द्वारा विकास हैप्पी होम स्कूल में जल संरक्षण पर आयोजित कार्यक्रम में विद्यार्थियों के मध्य व्यक्त की।

इससे पूर्व प्रजापिता ब्रहमाकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के जल प्रभाग द्वारा जल संरक्षण के महत्व को बताने के लिए बनाई गई चित्र प्रदर्शनी पर अपने उद्बोधन में बी0के0 दिनेश भाई ने जल के जीवन में उपयोग और महत्व पर चर्चा करते हुए बताया कि शरीर के हर अंग को पानी की आवश्यकता होती है। मनुष्य के मस्तिष्क में 75 प्रतिशत मात्रा में जल पाया जाता है इसलिए सभी को खासकर विद्यार्थियों को परीक्षा के समय अपनी याददास्त शक्ति बढ़ाने के लिए अधिकतम मात्रा में जल का उपयोग करना चाहिए। बी0के0 गजेन्द्र भाई ने पानी की टंकी के ओवरफ्लो होकर पानी खराब होने से बचाने के लिए पानी चेतावनी घण्टी” का उपयोग दिखाकर बच्चों को अपने-अपने घरों में पानी की टंकी पर पानी की घण्टी लगाने की प्रेरणा प्रदान की।

| सबमर्सिबल पम्प से टंकी को भरने के बाद पानी खराब होने से बचाने और नल आदि को खुला न छोड़ने के लिए प्रतिबद्ध रखने के लिए विद्यार्थियों को जल संरक्षण का संकल्प दिलाते हुए बी0के0 शान्ता बहिन ने मन को दिव्य गुणों से सजाने की प्रेरणा प्रदान की।

| ब्रह्माकुमारीज़ संगठन के ब्रह्मावत्सों का जल संरक्षण कार्यक्रम और समय प्रति समय सामाजिक उत्थान के लिए की जा रही सेवाओं की सराहना करते हुए प्रबन्धक बिजेन्द्र शर्मा ने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि स्कूल के बच्चे होनहार और जागरूक हैं ये जल की बचत करने और दूसरों को प्रेरित करने की सामाजिक सेवा में अपना योगदान अवश्य ही देंगे।

ज्ञात हो कि ब्रह्माकुमारीज़ संगठन द्वारा स्कूल, कॉलेज, सरकारी, गैर सरकारी संस्थाओं में कार्यक्रमों का आयोजन करके जागरूक किया जा रहा है।

इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षक सरोज शर्मा, इन्दिरा दुबे, पूनम, शिवानी, संध्या, अमन, बी0के0 श्वेता बहिन, गजेन्द्र भाई आदि का सहयोग सराहनीय रहा।