“Golden Principles of Happy Living” by Brahma Kumaris, Karnal

Karnal (Haryana):  A program was organized on the topic “Golden principle of life” at the Brahma Kumaris service center located at Sector-7.  The program was conducted on the occasion to welcome the drive of 4450 kms from Jammu to Mumbai by Brahma Kumaris Social Service Wing of Mount Abu.

Key speaker BK Shakti  said that happiness is our property. Self-Understanding is to be associated with Spirit. Physical, obstinate and social advancement in society is fine, but cant keep you happy. Make yourself as gold, which never gets worn out and turn it as you want. Humans are a social creature. We are the dead bodies of this society. There is a collaboration between Mind, Body and money, but spiritual assistance is the most important.

For the sake of being happy, forget what has passed. Continual practice is essential. Improve yourself before reforming society. Make God your best friend to remain happy always.

News in Hindi:

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के सेक्टर-7 स्थित सेवा केंद्र में जीवन के सुनहरे सिद्धांत विषय पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम सह संयोजिका शिक्षा की देखरेख में हुआ। इस दौरान ब्रह्माकुमारी के समाज सेवा विभाग माउंट आबू द्वारा जम्मू से मुंबई तक की 4450 किलोमीटर यात्रा के कार्यक्रम के तहत करनाल पहुंची यात्रा का स्वागत किया गया।

मुख्य वक्ता शक्ति क्हन ने कहा कि खुशी हमारी स्वयं को प्रॉपटीं । स्वयं को आत्मा समझ परमात्मा से जोड़ कर रखना होगा। समाज में भौतिक, बीन्द्वक एवं सामाजिक उन्नति ठीक है, लेकिन खुशी नहीं है। अपने को सोने जैसा बनाओ जिसको कभी जंग नहीं लगता और जितना चाहे मोड़ लो। इंसान एक सामाजिक प्राणी है। हम इस समाज के आधार मृत हैं। तन-मन-धन से सह्मयता ट्रक है, लेकिन आध्यात्मिक सहायता सबसे महत्वपूर्ण है। खुश रहने के लिए जो बीत गया उसे भूल जाओ। नित्य साधना आवश्यक है। समाज को सुधारने से पहले स्वयं को सुधारो। ब्रह्मा कुमारियों से जुड़ोगे तो कभी क्रोध या रोना आएगा नहीं। खुश रहना है तो परमात्मा को अपना साथी  बना लो।

कुमारी खुशी व स्नेह ने उनके स्वागत में सुंदर नृत्य प्रस्तुत  करवाया गया।