Gandhiji 150th Anniversary at Unity of Nashville with Brahma Kumaris

Nashville, Tennessee (USA): Unity of Nashville honored Mahatma Gandhi on his 150th Anniversary. Senior minister at Unity of Nashville John M. Mc Lean invited BK Sister Jenna, Director of the Meditation Museum from Washington, DC, for a workshop on “Head and Heart” at Unity of Nashville’s Sunday Service.

While interacting with the audience Sister Jenna apprised them of the life and contributions of Mahatma Gandhi, shedding light on the larger relevance of the values of non-violence, equality, unity and love practiced by him. She said that it was that one act of getting thrown out of the train that turned an otherwise reticent Gandhi into a campaigner of freedom. He used his faith in Truth as a basis for his demand of freedom and equality for all. It was through the power of Truth and non-violence alone that Gandhi could enable a subjugated and impoverished people to stand up and fight for their rights.

These values of unity, freedom and brotherhood are ever more relevant today.  Sister Jenna talked about the need to practice universal love to conquer hate and divisive politics.  She gave the audience a powerful meditation tool to practice patience and become loving.

With this powerful message of unity in diversity, Sister Jenna thanked everyone for honoring her words and sought co-operation in spreading this message all over Nashville and beyond.

News in Hindi: 

गांधी के अनमोल रतन प्यार और एकता से बदलें भारत की तस्वीर- बीके जेना
 
जीतने और आगे जाने की होड़ ने हमारी जिंदगी से सुकून छीन लिया है। प्यार की जगह हिंसा और नफरत ने ले ली है। एक दूसरे से मोहब्बत करना तो दूर हम तो खुद से ही प्यार करना भूल बैठे हैं। देश के जनक महात्मा गांधी ने कभी इन्हीं बातों को सच करने में अपना जीवन व्यतीत किया था। आज उनकी 150वीं वर्षगांठ पर उनकी ये प्रेरना भरी बातें हमें याद दिलाई ब्रह्माकुमारीज सिस्टर जेना ने। यूनिटी ऑफ नैशविल में आयोजित हेड एंड हर्ट पर आयोजित एक वर्कशॉप में सिस्टर जेना ने ये बातें कहीं। 
 
नैशविल में महात्मा गांधी की 150वीं वर्षगांठ मनाई गई। दर्शकों से बात करते हुए सिस्टर जेना ने महात्मा गांधी के गुण और देश में उनके योगदान को याद किया। उन्होंने कहा- गांधी जी अपनी पूरी जिंदगी लोगों में प्यार बांटते चले, एकता, अहिंसा, समानता उनके जीवन का लक्ष्य था। ट्रेन से उन्हें बाहर फेंके जाने के एक वाक्ये ने उन्हें स्वतंत्रता सेनानी बना दिया। अपनी पूरी जिंदगी देश की आजादी के लिए लड़ते रहे। सच्चाई पर उनके विश्वास ने ही उन्हें आजादी की लड़ाई लड़ने में मदद की थी। वे हमेशा लोगों के अधिकार और समानता की लड़ाई लड़ने के लिए खड़े रहते थे।  
 
सिस्टर जेना ने कहा- आज के वर्तमान समय में हमें इन सब गुणों की ज्यादा जरूरत है। आज हमारे अंदर हिंसा, द्वेष, असमानता ज्यादा हो गई है। प्यार, एकता और भाईचारा कहीं खो सा गया है। हमें जरूरत है उसी प्यार, विश्वास, एकता और भाईचारे की ताकि हम फिर से वहीं सुंदर भारत की निर्माण कर सकें जो पहले था। प्यार से हम नफरत की राजनीति पर भी जीत हासिल कर सकते हैं। सिस्टर ने कहा- इन सब संस्कारों को पुर्नजीवित करने के लिए हमें मेडिटेशन की जरूरत है। मेडिटेशन (ध्यान) से हम नफरत को भी प्यार में बदल सकते हैँ। धैर्य से दुनिया बदल सकते हैं। विविधता में एकता है, इसी संदेश के साथ सिस्टर ने हॉल में बैठे सभी लोगों से मेडिटेशन प्रेक्टिस करने की सलाह दी। इस कार्यक्रम में मौजूद थे वरिष्ठ मन्त्री जॉन ए.मैक लीन। सिस्टर जेना मेडिटेशन ऑफ द म्यूजियम वाशिंगटन की निदेशक हैं।