Brahma Kumaris with the Women and Child Welfare Department

Alirajpur (Madhya Pradesh):  Indian Culture glorifies women as the incarnation of Adi Devi (Founding Mother) – BK Narayan.

The Women and Child Welfare Department of Alirajpur organised a district-level program on the occasion of International Women’s Day. In this program Brahma Kumar Narayan, National Executive Member of the Religious Wing of the Brahma Kumaris from Indore, addressed the gathering, sharing that Indian Culture glorifies and worships women’s incarnation of Adi Devi. But today, women miss the balance of those traits of materialism and spirituality which was inherited by their predecessors. He further added that if we accept spiritual values again we shall be able to regain those lost powers.

Brahma Kumari Madhuri conducted a short session of Rajayoga for all.

District Child and Women Welfare officer Sarla said that, in spite of various initiatives of the government aimed at empowering women — both legally and economically — women become victim of depression and commit suicide. She added that Rajayoga is a powerful tool, as women’s empowerment can be a reality only when we become spiritually sound.

On this occasion Smt Anita Chouhan, Chairperson of Zilla Panchayat, presided over the meeting as Chief Guest while Smt Sena Patel, Chairperson of the Municipal Corporation, and Smt Seema Alawa, Additional Police Superintendent, graced the occasion as guests of honour.

About 980 women participants from various centers of the district joined the program.

In Hindi:

अलीराजपुर ,अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिला एवं बाल विकास विभाग अलीराजपुर द्वारा जिला स्तर पर महिलाओं के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें इंदौर से पधारे ब्रह्माकुमारी संस्था के धार्मिक प्रभाग के राष्ट्रीय कार्यकारी सदस्य ब्रह्माकुमार नारायण भाई ने बताया कि भारतीय संस्कृति में नारी का गौरवपूर्ण पूज्य स्वरूप आदि देवी शक्ति के रूप में गायन आज भी चल रहा है आज की नारियां इन्हीं शक्तियों की वंशज है परंतु भौतिक एवं आध्यात्मिक गुणों का जो संतुलन आदि देवी में है उसका आज नारी में सर्वथा अभाव दिखाई देता है ।आध्यात्मिक मूल्यों को अपनाने से हम पुनः अपनी खोई हुई शक्तियों को प्राप्त कर सकते हैं। राजयोग के माध्यम से हर अबला , कमजोर आत्मा भी अपने को शक्तियों से भरपूर बना सकती है ।ब्रह्माकुमारी माधुरी बहन ने राजयोग के माध्यम से सभी को सच्ची सुख शांति का अनुभव कराया ।जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी सरला बहन ने बताया कि आज नारी को कानून व आर्थिक रीति से सुदृढ़ करने में सरकारी प्रयास योजनाएं  चल रही है इसके बावजूद भी वह छोटी-छोटी बातों से तनावग्रस्त होकर आत्महत्या का रास्ता अपना लेती है। इसके लिए राजयोग  एक सशक्त साधन है आध्यात्मिक रीति से भी हमें संपूर्ण बनना होगा, तभी महिला सशक्त हो सकेगी। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्रीमती अनीता चौहान जिला पंचायत अध्यक्ष ,श्रीमती सेना पटेल नगर पालिका अध्यक्ष ,श्रीमती सीमा अलावा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने भी संबोधित किया। इस कार्यक्रम में पूरे जिले स्तर पर महिला एवं बाल विकास विभाग से आंगनवाड़ी की 980  महिलाओं ने भाग लिया