Brahma Kumaris Mohali Celebrate Diwali with Great Fanfare

Mohali ( Punjab ): The Brahma Kumaris of Mohali Ropar Circle celebrated Diwali with great fanfare in Sukh Shanti Bhawan Phase 7. A large number of devotees from Mohali, Kharar, Kurali, Morinda, Ropar, and Nurpur Bedi participated in the celebrations. Sukh Shanti Bhawan — including a Meditation Room, Baba’s Kutia, and the Conference Hall — were all tastefully decorated with coloured lights, LEDs, Rangolis and banners. The celebrations started in the early morning with meditation at 5 am. A Candle lighting ceremony  was performed by dedicated senior Rajayoga Teachers and Brahma Kumars of the area.

Brahma Kumari Premlata, Director, Rajyoga Centres Mohali-Ropar Circle, on this occasion greeted the public and inspired them to lead their lives with values and virtues like Shri Lakshmi and Shri Narayan. She emphasized enriching themselves with spirituality, meditation and the selfless service of humanity.

Brahma Kumari Rama, Co-Director, Rajyoga Centres Mohali-Ropar Circle, on this occasion threw light on various conventions related to Diwali. She urged to shun hatred, ill-will, jealousy and vices on this auspicious festival and radiate good wishes for all, so that the world may enjoy unity,  peace, purity, harmony and non-violence.

News in Hindi:

ब्रह्माकुमारीज़ ने मोहाली में मनाई उत्साह से दीवाली

दीवाली पर मानवीय मूल्यों से भरपूर करने का लो संकल्प- ब्रह्माकुमारी प्रेमलता

दीपावली पर ज्ञान के दीपक से मिटाओ अज्ञान अंध्कार– ब्रह्माकुमारी रमाा

मोहाली : ब्रह्माकुमारीज़ सुख शांति भवन  फेज़ 7 में आज यहां दीपावली का पावन पर्व बहुत ही उमंग-उत्साह व श्रद्वा से मनाया गया  जिसमें मोहाली,  खरड़, कुराली, रोपड़, मोरिंडा व नूरपुर बेदी से भारी संख्या में लोग शामिल हुए । सुख शांति भवन  फेज़ 7 व तपस्या हेतू बनी बाबा की कुटिया व कांफ्रेस हाल को बहुत सुंदर बिजली की रंग बिरंगी लड़ियों  व रंगोलियों से सजाया गया था । इस अवसर पर गीत, नृत्य, सकिट आदि का रंगारंग कार्यक्रम  हुआ तथा वरिष्ठ ब्रह्माकुमारीयों व ब्रह्माकुमारों द्वारा दीप प्रज्जवलन किया गया । इस अवसर पर बहुत सुंदर चेतन श्री लक्ष्मी जी की झांकी भी सजाई गई थी ।

मोहाली क्षेत्र के राजयोग केंद्रों की निर्देशिका ब्रह्माकुमारी प्रेमलता बहिन जी ने सर्वप्रथम परमात्मा पिता को भोग स्वीकार कराया तथा अपने उदगार व्यक्त करते कहा कि दीवाली वास्तव में  ज्ञान द्वारा आत्मिक ज्योति जगाने की निशानी है जैसे दीपक जगने से अंध्कार समाप्त हो जाता है वैसे ही ज्ञान के दीपक से अज्ञान का अंध्कार समाप्त हो जाता है । उन्होंने आगे कहा कि आओ हम सभी दिवाली पर अपने में  मानवीय व सामाजिक मूल्य लाने का संकल्प लें ताकि संसार में बढ़ते विकारों व पापों को समाप्त कर सकंे । उन्होंने त्याग, तपस्या व न्स्विार्थ सेवा करने की प्रेरणा दी । उन्होंने इस अवसर पर इलाका निवासियों को कोटि कोटि बधईयां भी दी ।

मोहाली क्षेत्र के राजयोग केंद्रों की सह-निर्देशिका ब्रह्माकुमारी रमा ने इस अवसर पर दीपावली के साथ जुड़ी अनेक मान्यताओं के आध्यात्मिक रहस्यों से अवगत कराया और कहा कि दीवाली पर बाह्य साफ सफाई के साथ साथ मन से घृणा, नफरत, वैर -विरोध्,  दुर्गणों व विकारों  से सफाई करना भी जरूरी है  तभी हमारे मन का दीपक  जग सकेगा  तथा श्री लक्ष्मी हमारे घरों में वास कर सकेगी । उन्होंने आगे कहा कि इस पर्व पर हमें अपने आने वाले सतयुग जैसे स्वभाव व संस्कार धरण करने होंगे तथा सभी के प्रति शुभ भावना व  शुभ कामना रखनी चाहिए तब ही इस संसार में शांति, प्रेम, खुशी, सद्भावना आएगी । उन्होने जोर देकर कहा कि यह कलियुग का अंतिम समय चल रहा है परमात्मा शिव द्वारा दिये ज्ञान व राजयोग को धरण करते स्वयं को निरंअहकारी, कमल फूल समान पवित्रा व अंहिंसक बनाना है ।

कुमारी संजना ने स्वागत नृत्य, कजहेड़ी की कुमारीयों ने ग्रुप डांस व कुमारी वैष्णवी ने कविता से सबका मन मोह लिया ।