Brahma Kumaris Chhattarpur Celebrate Guru Purnima Festival

Chhattarpur ( Madhya Pradesh ): Brahma Kumaris observed the Guru Purnima Festival at their Centre in Kishore Sagar of Chhatarpur in Madhya Pradesh, online, because of the lockdown in force due to the corona pandemic.

The Centre in Charge BK Shailaja on this occasion conveyed the Divine message of the Supreme Guru of the Universe to the Mankind.

“The Present Era is a Phase of Mental Instability in the World. Various kinds of diseases, calamities and fear of impending war and many such challenges engulfed Man, who is finding himself lonely and helpless. At this juncture, time itself has become our Teacher. The root cause of this situation is that we never regarded and lived according to time. Hence time is teaching us the lesson. Arrival of Guru Poornima Day has reminded us of our Supreme Teacher, God Shiva, who is asking us to follow the Time, so that we may not get deceived in life at right moment. If we stay under the Canopy of God, we will get liberated from all our problems and worries.”

The above statements were the versions of BK Shailaja, in her online address to all participants in connection with the festival of Guru Purnima.

News in Hindi:

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा ऑनलाइन दिया गया गुरूपूर्णिमा पर परम सतगुरू परमात्मा का संदेश

छतरपुर : वर्तमान युग मानसिक अस्थिरता का युग है। अनेकानेक बीमारियों, प्राकृतिक आपदाओं, युद्ध का भय जैसी विभिन्न चुनौतियों से घिरा हुआ मानव स्वयं को अकेला और असहाय महसूस कर रहा है। इस समय हमारा सबसे बड़ा शिक्षक या गुरू “समय” ही बना हुआ है। इन सभी आपदाओं का मूल कारण है कि हम समय के अनुसार नहीं चल रहे हैं। हम समय के अनुसार नहीं चले इसलिए अब हमे समय सिखा रहा है। ऐसी भयावह परिस्थितियों के बीच गुरूपूर्णिमा का आगमन हमें हमारे परम सत्गुरू परमात्मा शिव की स्मृति दिलाता है और वो हमे शुभ शिक्षा देते हैं कि समय के अनुसार चलें उसके साथ चलें तो हम समय पर धोखा नहीं खायेगें। परमपिता परमात्मा की छत्रछाया में रहने से हम सारी समस्याओं, चिंताओं से मुक्त हो जायेगें।

उक्त उद्गार छतरपुर सेवाकेन्द्र प्रभारी आदरणीय ब्रह्माकुमारी शैलजा बहनजी ने गुरूपूर्णिमा के उपलक्ष्य में किशोर सागर स्थित ब्रह्माकुमारीज़ के पावन प्रांगण में ऑनलाइन संबोधन द्वारा व्यक्त किए।