Brahma Kumaris Bhopal Observe Raksha Bandhan in a Spiritual Way

Bhopal ( Madhya Pradesh ):  During the national critical condition prevailing due to the corona virus pandemic, BK Dr. Rina, Centre in Charge of Gulmohar Colony in Bhopal, has appealed to people of the country, on behalf of the Brahma Kumaris, to celebrate the festival of Raksha Bandhan in a Spiritual way, because it is not possible to enjoy any festival in the usual manner.

In the capital city of Bhopal, sisters of Gulmohar Centre prepared very beautiful Rakhis with slogans of self esteem and by observing social distancing, tied them and presented masks, sanitizers and cards of Divine Blessings to the BK Brothers.

BK Dr. Rina while speaking about the Spiritual Secret of Raksha Bandhan, revealed the significance of the Tilak, Rakhi, sweets and coconut used in this festival. At the same time she gave some tips useful to defeat corona. She appealed everyone to remain safe by using SMS (Social Distancing, Mask and Sanitizer) because if We are Safe, our Home is Safe and when Home is Safe, the World is Safe.

Tilak : On Raksha Bandhan, sister applies a Dot of Sandal paste on her brother’s forehead. It is a sign of Success. This year let us put the Tilak by ourselves reminding Self that I am winning over all the external situations of corona and I am the Victorious Jewel of God. To get set in this state, BK  brothers and sisters of the Centre did Yog for 5 minutes and people were also appealed to concentrate the Mind in the same way.

Rakhi (Thread of Safety) : A Sister ties a sacred Thread on the wrist of her Brother. It acts as a Safety Cover for him. This year everyone may tie this Rakhi as a Safety Cover of Positive Thoughts in their Mind and just as Karna was safe by his Safety Wear, remind Self being safe as a Special Safe Jewel of God under His Canopy. Not any Negative Thoughts can enter in such a Mind. To achieve this, it was suggested to take out some time to practice Pranayam and Raja Yoga daily.

Sweets : On this occasion a Sister serves Sweet in her Brother’s mouth by herself. Similarly this year, may all the citizens of the country pledge to take Pure and Virtuous Food.

Coconut : Sister offers a Coconut to Brother. This is a sign of wishing him a very Happy and Prosperous Life. Now we must consider that God has given us this beautiful Nature. The entire Globe is front of me and I am fulfilling each and every individual living on this Globe with my Best Wishes for their Welfare.

Gifts : On this Holy Festival Day, in return, Brother gives some Money to his Sister as a Gift. So let us all boost the Corona Virus Warriors and all those Brothers and Sisters who are also fighting with corona, assuring them that very soon this critical situation is coming to an end. At the same time let us all  honour them from our hearts.

News in Hindi:

कोरोना काल में आध्यात्मिक रूप से मनाएं रक्षाबंधन -ब्रह्माकुमारीज बहनों की सभी देशवासियों से अपील।
भोपाल । वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से इस बार सभी तीज-त्योहारों को पारंपरिक रूप से मनाने में कठिनाई आ रही है। ऐसे में ब्रह्माकुमारीज बहनें इस बार आध्यात्मिक रूप से रक्षाबंधन का पावन पर्व मनाने जा रही हैं। साथ ही उन्होंने देशवासियों से भी आध्यात्मिक रूप से रक्षाबंधन मनाने की अपील की है। राजधानी भोपाल में ब्रह्माकुमारीज के गुलमोहर सेवा केंद्र पर बहुत सुंदर व दिव्य स्वमानों की राखियां तैयार की गई हैं। जहां ब्रह्माकुमारीज बहनों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए भाइयों को सेनेटाइजर,मास्क और सुंदर वरदान दिए।
गुलमोहर सेवा केंद्र प्रभारी बी.के. डॉ.रीना बहन ने रक्षाबंधन का आध्यात्मिक रहस्य बतलाते हुए तिलक, रक्षासूत्र, मिठाई, नारियल का महत्व के बारे में भी बताया। साथ ही उन्होंने कोरोना को पराजित करने के टिप्स दिए। बी.के रीना बहन ने एसएमएस (सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क और सेनेटाइजर)का प्रयोग कर सुरक्षित रहने की अपील की है। क्योंकि हम सुरक्षित तो घर सुरक्षित और घर सुरक्षित तो जग सुरक्षित।
तिलक: रक्षाबंधन पर बहन भाई के माथे पर तिलक लगाती है, जो की विजय का प्रतीक होता है। इस वर्ष हम स्वयं ही स्वयं को इस स्वमान का तिलक लगाएं कि मैं इस कोरोना काल में बाहर से आने वाली हर परिस्थिति पर विजय पाने वाला परमात्मा का विजयी रत्न हूं। इस स्वमान में स्थित होने के लिए ब्रह्माकुमारीज सेंटर के भाई बहनों ने 5 मिनट ध्यान केंद्रित कर योगाभ्यास भी किया। साथ ही सभी से ध्यान केंद्रित कर इस स्वमान में स्थित होने की अपील भी की।
रक्षासूत्र: बहन अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती है, जो भाई के लिए एक कवच का कार्य करता है। इस वर्ष हर मनुष्य अपने मन में पॉजिटिव संकल्पों का रक्षा कवच बांध ले। स्वयं को यह अनुभव कराएं कि जिस प्रकार कवच के अंदर कर्ण सुरक्षित था, उसी प्रकार मैं परमात्मा की छत्रछाया में पलने वाला विशेष रत्न हूं। जिसके अंदर कोई भी निेगेटिव विचार प्रवेश कर नहीं सकता। इसके लिए विशेष समय निकालकर प्राणायाम करने की सलाह दी गई है।
मिठाई: रक्षाबंधन पर बहन भाई का मुंह मीठा कराती है। तो हम सब पूरे देशवासी इस वर्ष सात्विक शुद्ध अन्न से स्वयं का मुख मीठा करने का प्रण लें।
नारियल: बहन भाई को नारियल भी भेंट में देती है, तो इस समय हम यह महसूस करें कि परमात्मा ने हमें यहां सुंदर प्रकृति भेंट में दी हुई है। यह विश्व ग्लोब मेरे सामने है और मैं इस ग्लोब पर रहने वाले हर मनुष्य को शुभ विचारों के संकल्पों से भरपूर कर रहा हूं।
सौगात (खर्ची) गिफ्ट : इस पावन पर्व पर भाई बहन को खर्ची के रूप में कुछ देता है। तो हम सब देश में मौजूद कोरोनावॉरियर्स को व कोरोना से जंग लड़ रहे भाई-बहनों को यह हौंसला दें कि बहुत जल्द यह विषम परिस्थिति खत्म होने वाली है। साथ ही साथ दिल से उनका सम्मान भी करें।