Brahma Kumaris Address Blood Donation Camp

Jhojhu Kalan – Kadma (Haryana): “Blood donation is an act of greatest charity. If our blood is useful to a needy, it is really a noble social service,” this was spoken by BK Vasudha, addressing all the donors. She was invited to speak as a Chief Guest.

The Blood Donation Camp was conducted by the Hindustan Scouts and Guides at Baba Gufadhari Temple, in Jhojhukalan, Kadma, in commemoration of the Centenary of the tragic historical Jallianwala Bagh episode and also the Baisakhi Festival celebration.
On this occasion BK Vasudha said, “Simultaneous to this blood donation service we must spread the vibrations of divine qualities and divine energies in the society through our benevolent thoughts, by which the society will become nobler and value-based.” She said, “Selfless service rendered is the sure means to bring positive change in society and blood donation is one such service.”  She asked everyone to spare daily a few minutes to imbibe moral, ethical and human values in life and said that Rajayoga meditation, without fail, will help to achieve the goal.
Lastly she honoured all donors by presenting them a Certificate of Recognition.  Mr. Bishan Singh Arya, In-Charge of Hindustan Scouts and Guides; Mr. Harpal Arya, Teacher; Mr. Ravindra Sangvan, Director of Aryan Coaching Centre; Mr. Sanju Sangvan, Teacher and winner of the State Teacher’s Award Mr. Ravindra Sangvan were also present on the occasion.
News in Hindi
झोझूकलां-कादमा(हरियाणा):– रक्तदान महादान है हमारा रक्त किसी जरूरतमंद के काम आए यह सबसे बड़ी समाज सेवा है यह उद्गार हिंदुस्तान स्काउट्स एवं गाइड्स द्वारा बाबा गुफा धारी मंदिर झोझूकलां मैं जलियांवाला बाग की शहादत के 100 वर्ष पूरे होने पर तथा बैसाखी के पर्व पर आयोजित रक्तदान शिविर में बतौर मुख्य अतिथि राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी वसुधा बहन ने रक्त दाताओं को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि हमें रक्तदान के साथ-साथ समाज में अपने शुभ संकल्पों के द्वारा दिव्य गुण और शक्तियों को फैलाना है जिससे हमारा समाज एक मूल्य निष्ट समाज बन सकेगा। ब्रह्माकुमारी बहन ने कहा निस्वार्थ भाव से की गई सेवा अवश्य ही समाज में एक सकारात्मक परिवर्तन लाने का कार्य करेगी और यह रक्तदान एक निस्वार्थ भाव से की गई सेवा है उन्होंने जीवन में आध्यात्मिक नैतिक और मानवीय मूल्यों को धारण करने के लिए प्रतिदिन कुछ पल स्वयं के लिए निकालने के लिए कहा और बताया कि राजयोग मेडिटेशन इसमें रामबाण का कार्य करेगा। ब्रह्माकुमारी वसुधा बहन ने रक्त दाताओं को प्रमाण पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। इस अवसर पर हिंदुस्तान स्काउट्स एवं गाइड्स के प्रभारी बिशन सिंह आर्य मास्टर हर पाल आर्य आर्यन कोचिंग सेंटर के निदेशक रविंद्र सांगवान मास्टर संजू सांगवान राज्य शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित मास्टर रविंद्र सांगवान आदि उपस्थित थे।