3-Day Residential Personality Development Camp in Vishwa Shanti Sarovar

Nagpur ( Maharashtra ): The Brahma Kumaris organized a three-day Personality Development Welfare Camp for children. This Camp was held during the Summer Holidays for the personality development of children between 10 to 15 years of age in Vishwa Shanti Sarovar, Jamtha, situated in the Vidarbh district. Some 130 children benefited by this camp.

On the first day, the Inauguration ceremony of the camp was done primarily by Shri Shailendra Teburn, Gram Panchayat Secretary, Jamtha; Shri Rajendra Bhuyar, Deputy CEO; Zila Parishad, Nagpur; Ankush Kedar, Additional CEO, Zila Parishad, Nagpur and Regional Director Nagpur; Rajyogini BK Rajini and BK Manisha.

In present lifestyle, children’s childhood is lost. Fear, irritation, absence of character, mobile or TV addiction are on the rise. Keeping this in mind, the camp was organized for all-round growth and adoption of virtues in today’s lifestyle. The camp emphasized doing Pranayama for Physical health and Meditation for keeping the mind stable, and the children were shown Motivational videos.

In the 3-day Residential Camp, the focus was an experience of internal character, obedience, respect, internal beauty, and being free from fear of exams.

Pranayam, Value-based games, Yoga, Meditation, Competitions, etc., and various artistic and development activities were also covered. On the 3rd day of the Camp, a program with plays, dances, and prize distribution was arranged to entertain the visitors.

In Hindi:

ब्रह्माकुमारीज व्दारा बाल व्यक्तित्व विकास शिवीर का सफलतापुर्वक समापन नागपूर, जामठा
प्रजापिता ब्रह्माकुमारीज संस्था व्दारा त्रिदिवसीय बाल व्यक्तित्व विकास शिविर का आयोजन किया गया। गर्मियों की छुट्टियों में 10 से 15 वर्ष के बच्चों के विकास के लिए 3 से 5 मई तक यह शिविर जामठा स्थित विदर्भ स्तरिय रिट्रीट सेंटर विश्व शांती सरोवर में रखा गया था । इस शिविर का 130 बच्चों ने लाभ लिया। प्रथम दिवसीय बाल व्यक्तित्व विकास शिविर के उद्घाटन प्रसंगी मुख्य रुप से भ्राता श्री शैलेंद्र टेंभूर्ने, सेक्रेटरी, ग्रामपंचायत, जामठा और भ्राता श्री राजेंद्र भूयार, डेप्युटी सीईओ. जिल्हापरिषद, नागपूर और भ्राता श्री अंकुश केदार, एडिशनल सीईओ, जिल्हा परिषद, नागपूर तथा नागपुर क्षेत्रिय निर्देशीका राजयोगिनी रजनी दीदी तथा मनिषा दीदी उपस्थित थे ।
वर्तमान आधुनिक जीवन शैली में बच्चों का बचपन गुम हो रहा है। बच्चों में डर, चिडचिडापन, गुणों का अभाव, मोबाइल व टी.व्ही. का अॅडिक्शन बढ़ रहा है। इस बात को ध्यान में रखते हुये बच्चों का सर्वांगिन विकास तथा मुल्यों की जीवन में धारणा इस उद्देश्य को लेकर इस शिविर का आयोजन किया गया था। शिविर में शरीर को स्वस्थ रखने के लिए प्राणायाम बताया गया तो दुसरी ओर मेडिटेशन के द्वारा मन को एकाग्र रखने की भी युक्ति बतायी गयी तथा बच्चों को मोटिव्हेशनल विडियो भी दिखाये गये।
त्रिदिवसीय आवासीय शिविर में बच्चों के लिये जीवन का लक्ष क्या है ? आतंरिक गुणों की अनुभूति आज्ञाकारीता, आदर, आतंरीक सौंदर्य, परीक्षा के भय से मुक्ति इन विषयों पर प्रकाश डाला गया। प्राणायाम, मुल्यात्मक गेम, योग, मेडिटेशन, स्पर्धायें आदि विभिन्न, कलात्मक, विकासात्मक एक्टिविटी कराई गई। शिविर के तिसरे दिन मुल्यों को दर्शाने वाले नाटक, नृत्य का आयोजन किया गया। आदरणीय रजनी दीदी के उपस्थिती में सभी बच्चों को पुरस्कार वितरीत कराये गये।