3-Day Conference on “Miracles of Rajayoga for Boosting Sports Performance”

Gyan Sarovar, Mount Abu ( Rajasthan ):  The Sports Wing of the Rajayoga Education and Research Foundation organised a three-day Conference at Gyan Sarovar complex in Mount Abu to highlight the importance of Rajayoga for the Sportsmen to enhance their skills and all-round performance in their excellence during competitions.

Dr. Gurdeep Singh, Former Joint Secretary, Association of Indian Universities, New Delhi, was the Chief Guest. Colonel Raj Bishnoi, Principal and Director of Motilal Nehru School of Sports, Sonepat, Haryana; Mr. Mahender Vaishnav, International Cricket Player for Physically Disabled (Blind) from Hyderabad, Telangana; BK Basavaraj Rajarushi, Chairperson, Sports Wing from Hubli, Karnataka; BK Shashi, Vice Chairperson of Sports Wing, Mount Abu; BK Dr. Jagbir Singh, Head Quarters Co-ordinator of Sports Wing, Mount Abu; BK Rohtash, Life Member of the Sports Wing from New Delhi; and BK Vasantha, Rajayoga Teacher from Hyderabad, were seated on the dais.

The Madhur Vani Group of Mount Abu welcomed the delegates with a welcoming song, and Gracy and Shrushti welcomed the audience with their graceful dance.  Later the conference was inaugurated with lighting the lamps by all the guests on the dais.

Colonel Raj Bishnoi said, “Player achieves success only by his consistent efforts, faith on the Trainer and Facilities. Player who is conscious of his moral values always performs his best. Rajayoga training imparted by Brahma Kumaris improves concentration of mind and power to acquire moral values”. He was addressing on the subject, “Wonders due to Rajayoga for boosting performance in sports by the players”. He said, “With the enhanced Mind Power and Skills by Rajayoga, players can challenge in International Sports and win many Medals. In spite of providing best facilities and best training non positive performance is mainly due to lack of moral values”.

Mr. Mahendra Vaishnav said, “Loosing my sight at the age of three years has become a boon for me and today I am a part of this International Cricket for the Blind. I consider myself very fortunate that my blindness has become the cause for my achievements. Brahma Kumaris have filled me with Self Confidence through their Spiritual Knowledge from my very school days. Due to that I could remain optimistic with a positive attitude. It makes it easy to gain happiness and learn to become courageous. In the 2018 Cricket World Cup for the Blind we could be the winners. God’s grace can be realized only by keeping unfailing faith on our own capabilities”.

Dr. Gurdeep Singh said, “Science and Spirituality together can do wonders. Along with physical and technical training of the players, it is very essential to train the Mind. So that while playing, at the time to take a decision, one can remain tension-free by keeping his soul power stable. Effect of Rajayoga was found fruitful in taking right decisions at right time by having better concentration. The mental ability improves with Rajayoga”.

BK Basavaraj Rajarushi said that God Himself has descended on earth to bestow noble qualities in Man through Spiritual Education. This is the time for the Golden Era to commence. He blessed all the players that they must earn a Godly medal along with Gold medals in their lives.

BK Shashi welcoming the Guests and all the delegates said that the Player should always maintain his joy and enthusiasm under any circumstances. Player with strong Mind and Will Power can only reach the new heights of success in life, she said.

BK Jagbir Singh gave introduction of the Sports Wing and their activities in detail. He emphasized the Players to learn Rajayog to refine their skills further in Sports.

Lastly BK Rohtash extended a vote of thanks to one and all for making the event successful. BK Vasantha did the anchoring of the inaugural event of the conference.

News in Hindi:

राजयोग प्रशिक्षण से बढ़ता है मनोबल
ब्रह्माकुमारी संगठन मे खेल प्रभाग सम्मेलन आरंभ
माउंट आबू, २९ अप्रेल। हरियाणा सरकार के मोतीलाल नेहरू स्पोर्टस स्कूल सोनीपत निदेशक कर्नल राज विश्नोई ने कहा कि निरंतर मेहनत, प्रेशिक्षक व व्यवस्था में आस्था से ही खिलाड़ी सफलता को प्राप्त कर सकते हैं। जो खिलाड़ी अपने नैतिक मूल्यों के प्रति सजग है वह निरंतर श्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकता है। ब्रह्माकुमारी संगठन की ओर से दिये जाने वाले राजयोग प्रशिक्षण से खिलाडिय़ों में मानसिक एकाग्रता व मूल्यों को धारण करने की शक्ति मिलती है। वे प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वारीय विश्वविद्याल के खेल सेवा प्रभाग द्वारा ज्ञान सरोवर अकादमी परिसर में खेलों में उत्तम प्रदर्शन के लिए राजयोग का चमत्कार विषय पर आयोजित तीन दिवसीय सम्मेलन के उदघाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि ब्रह्माकुमारी संगठन द्वारा राजयोग प्रशिक्षण प्राप्त करने से मनोबल क्षमता विकसित होने पर खिलाड़ी अपना लोहा मनवाकर देश के अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पदकों में वृद्धि कर सकते हैं। बेहतर प्रशिक्षण व पर्याप्त व्यवस्थाओं के उपलब्ध होने के बाद भी नैतिक मूल्यों के अभाव में सकारात्मक परिणाम नहीं मिलता है।
हैदराबाद से आए अंतर्राष्ट्रीय निशांत क्रिकेट खिलाड़ी महेंद्र वैष्णव ने कहा कि तीन वर्ष की आयु में दृष्टि खोना मेरे लिए वरदान बना और आज मैं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इस खेल का हिस्सा बन गया। मैं खुद को भाग्यशाली मानता हंू कि आंखों ने देना भी मेरे लिए उपलब्धि का सबब बना। स्कूल के समय से ही ब्रह्माकुमारी बहनों ने मुझे आध्यात्मिक ज्ञान सुनाकर मेरे आत्मविश्वास को पंख लगा दिये। जिससे मेरे जीवन की हर परिस्थिति में हमेशा से ही सकारात्मक दृष्टिकोण बना रहता है। जीवन में संतुष्टता का भाव बढऩे धैर्यता का पाठ पढऩा आसान हो जाता है। २०१८ के दिव्यांगों के लिए हुए विश्वकप में क्रिकेट में हम विजेता बने। स्वयं की क्षमता पर विश्वास रखने से ही भगवान की मदद का अहसास होता है।
भारतीय विश्वविद्यालय संघ दिल्ली के पूर्व सहसचिव डॉ. गुरदीप सिंह ने कहा कि साइंस के साथ आध्यात्मिकता का समावेश अदभुत नतीजे ला सकता है। खिलाडिय़ों के शारीरिक व तकनीकी रूप से प्रशिक्षण पर ध्यान देने के साथ मानसिक प्रशिक्षण की अत्यंत आवश्यकता है। खेलों के निर्णायक दौर पर आत्मिक शक्ति को स्थिर बनाए रखने से ही तनाव से मुक्त रहा जा सकता है। एकाग्रता व सही समय पर सही निर्णय लेने के लिए राजयोग प्रशिक्षण के सार्थक परिणाम प्राप्त हुए हैं। मन की स्थिरता राजयोग से बढ़ती है।
ब्रह्माकुमारी संगठन के खेल प्रभाग अध्यक्ष बीके बसवराज राजऋषि ने कहा कि परमात्मा स्वयं धरा पर आकर आध्यात्मिक शिक्षा द्वारा मानव में सदगुणों का विकास कर रहा है। स्वर्णिम युग आने का यह अवसर है। खिलाड़ी जीवन में स्वर्णपदक के साथ गॉडली मेडल की पाने का पुरुषार्थ करें।
संगठन के खेल प्रभाक की राष्ट्रीय संयोजिका बीके शशि बहन ने कहा कि खिलाड़ी को किसी भी पररिस्थिति में उमंग-उत्साह कायम रखना चाहिए। मानसिक दृढ़ता से संपन्न खिलाड़ी ही सफलता के नए सोपान तक पहुंच सकता है।
प्रभाग के मुख्यालय संयोजक बीके जगबीर सिंह ने प्रभाग द्वारा की जा रही सेवाओं की विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए खिलाडिय़ों को अपने कलाकौशल में निखार लाने के लिए नियमिति रूप से राजयोग प्रशिक्षण प्राप्त करने पर बल दिया।