Workshop on National Youth Day at Bhilwara

Bhilwara ( Rajasthan ): On the eve of Swami Vivekananda Jayanti, local centre of Brahma Kumaris Pathik Nagar organised a seminar for students of various colleges of Bhilwara District, in which ninety-four students from thirteen colleges churned on the subject “Design your Destiny”.

The participants were divided into ten groups to churn on various points such as discipline, positivity, courage, determination, dedication etc. After half an hour it was concluded that there is no destiny without efforts. We ought to build our destiny by living in the present amidst positive thoughts. Our past deeds along with our present deeds are important to build our Destiny since deeds and destiny are complementary to each other.

Addressing the occasion Chief Speaker BK Taruna told that wealth, position, physical health and powerful mind are essential elements to have good luck. She advised all student participants to uphold Confidence and stay healthy so that they can face the challenges of life. She also warned them to avoid bad company as it streaks of luck.

Prof. Amolak Goyal advised the students to strive to have their Destiny by raising the thought level through regular studies and Meditation. In her blissful address BK Indra asked all students to realize the power of Supreme soul and increase concentration through Rajayoga Meditation.

BK Anita conducted Rajyoga Meditation while Sashikant, Nimit, Rahul and party performed a short play on Destiny. At the end all the participants received a copy of Today’s Thought along with blessing cards. BK Rashmi Parik coordinated the programme. Students of MLB Rajakiya Boys’ College, SMM Rajakiya Girls ‘College, MLB Textile College, Polytechnic College, Vidya College Kanchan Devi College, Green Valley College, SDM College, MG Nursing College and Nehru Yuva Kendra participated in the seminar.

In Hindi:

युवाओं ने ‘डेस्टिनी’ पर किया मंथन
स्वामी विवेकानंद जयंती, राष्ट्रिय युवा दिवस के उपलक्ष में ब्रह्मा कुमारीज के पथिक नगर सेवाकेंद्र के ओम शांति सभागार में भीलवाड़ा जिले के कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए “डिज़ाइन योर डेस्टिनी” विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें 13 कॉलेजों से 94 विद्यार्थियों नें मंथन किया की डेस्टिनी क्या है? डेस्टिनी निर्माण में कौन कौन सी चुनौतियाँ आती हैं व् उन्हें कैसे पार किया जाये? डेस्टिनी निर्माण में अतीत के कर्म की महत्वता ज्यादा है या वर्तमान के कर्मों की? डेस्टिनी निर्माण के लिए स्थान का परिवर्तन करना आवश्यक है अथवा नहीं? क्या स्वयं की डेस्टिनी से अन्य लोगों की डेस्टिनी जुड़ी हुई है अथवा नहीं?
उपस्थित विद्यार्थियों को डिसिप्लिन, पाजिटिविटी, करेज, डीटरमिनेशन, डेडीकेशन, आदि दस दस के ग्रुप में विभाजित किया गया व् 30 मिनट तक मंथन करने के पश्चात सभी ग्रुप नें अपने विचार साझा किये की बिना मेहनत भाग्य नहीं बनता, भाग्य निर्माण के लिए वर्तमान में जीना सीखें, सकारात्मक सोच को विकसित करें| आर्थिक, शारीरिक, सामाजिक, संसाधनों की कमी आदि चुनोतियों का आत्मविश्वास व् द्रढ़ता से सामना करें| डेस्टिनी निर्माण में अतीत के कर्मों के साथ साथ वर्तमान के कर्म भी महत्व रखते हैं, कर्म व् भाग्य एक दुसरे के पूरक हैं आदि आदि |
मुख्य वक्ता ब्रह्मा कुमारी तरुणा बहन ने कहा कि श्रेष्ट भाग्य के लिए धन, पोजीशन, शारीरक स्वास्थ्य आदि के अतिरिक्त सशक्त मन का होना जरुरी है| परीक्षा के दिनों में आत्मविश्वास कायम रखें व् अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें इससे हम आने वाली चुनोतियों का सहज सामना कर सकेंगे |अपने संग की संभाल करना अति आवश्यक है क्योंकि कुसंग अच्छे कालेजों में पढने वाले विद्यार्थियों के भाग्य पर लकीर फेर देता है |
प्राध्यापक अमोलक गोयल नें कहा की भाग्य निर्माण के लिए नियमित पढ़ाई के अतिरिक्त मेडीटेशन के द्वारा अपना भावनात्मक स्तर बढ़ाएं| ब्रह्मा कुमारी इंद्रा दीदी नें अपने आशीशवचन में सभी विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य की कामना की व् कहा भाग्य निर्माण के लिए परमात्मा की स्मृति के द्वारा उसकी शक्ति का एहसास करें, मेडीटेशन के द्वारा मन की एकाग्रता को बढ़ाएं | ब्रह्मा कुमारी अनीता बहन नें कमेंट्री गाइडेड मेडीटेशन का अभ्यास कराया व् मन की गहन शांति की अनुभूति कराई |
कार्यक्रम का शुभारम्भ इंद्रा दीदी, डॉ मीनू, जी एस टी कमिश्नर डॉ अशोक, प्रोफेसर अमोलक भाई, ब्रह्मा कुमारी तारा दीदी, के द्वारा दीप प्रज्वलन कर किया गया | इस कार्यशाला में एम् एल वी राजकीय बॉयज कॉलेज, एस एम् एम् राजकीय गर्ल्स कॉलेज, एम् एल वी टेक्सटाइल कॉलेज, पोलीटेक्निक कॉलेज, विद्या कॉलेज, कंचन देवी कॉलेज, ग्रीन वाली कॉलेज, एस डी एम् कॉलेज, एम् जी नर्सिंग कॉलेज, नेहरु युवा केंद्र के विद्यार्थी उपस्थित थे |
कार्यक्रम के आरंभ में प्रियंका बहन के द्वारा आइस ब्रैकिंग एक्सरसाइज कराई गयी | शशिकांत, निमित व् राहुल एंड पार्टी के द्वारा डेस्टिनी के ऊपर लघु नाटिका प्रस्तुत की गयी | अंत में सभी को आज का विचार नमक पुस्तक व् ब्लेसिंग कार्ड दिया गया | कार्यक्रम का सञ्चालन बहन रश्मि पारीक नें किया |