Spiritual Mystery behind Churning the Ocean: BKs at Kumbh 2019

Prayagraj, Uttar Pradesh: A beautiful still scene, ‘Churning the Ocean‘, has been constructed by the Brahma Kumaris as part of the Satyam Shivam Sundaram Spiritual fair at Kumbh Mela 2019 in Sector 5, Prayagraj. The tableau which is a unique combination of sophisticated scientific technique and spirituality is constructed using 4D technology and a hologram technique.

Explaining the still, BK Manorama said that, while we know the story of churning the ocean and the amrit (nectar) one obtains from it, the real benefit lies in understanding its spiritual mystery. Actually speaking, when we meditate on the directives of God, then both, nectar and poison, are produced in our minds. The Supreme Father, Shiv, who is the Benefactor, retains the poison and gives the nectar of knowledge to His children. By drinking this nectar of His knowledge, one becomes like deities.

The fair is being visited by a large number of people who are benefiting from the free spiritual knowledge and Rajyog Education being imparted at the camp. A one-hour, three-day Raj Yoga Camp has also been organized as part of the fair, which is held from 7:00 am to 8:00 am and in the evening from 5:00 pm to 6:00 pm. The fair is open to all from 10:00 am to 9:00 pm.


कुंभ मेला क्षेत्र के सेक्टर 5 स्थित सत्यम शिवम सुंदरम शिविर में ब्रह्माकुमारीज द्वारा 4D टेक्नोलॉजी एवं होलोग्राम टेक्निक द्वारा निर्मित समुद्र मंथन की सुंदर झांकी का निर्माण किया गया है | ब्रह्माकुमारी मनोरमा दीदी ने बताया कि समुद्र मंथन की कथा तथा इससे उत्पन्न हुए अमृत कलश के बारे में तो हम सभी जानते हैं परंतु वास्तविक लाभ इसके आध्यात्मिक रहस्य को जानने से ही होगा| उन्होंने बताया कि जब हम पिता परमात्मा शिव के निर्देश पर अपने अंतर्मन में मंथन व चिंतन करते हैं तो हमारे अंतर्मन में अमृत और विष दोनों उत्पन्न होते हैं| परमपिता शिव कल्याणकारी हैं, वह विष स्वयं धारण करते तथा ज्ञान अमृत हम बच्चों को देते हैं| इस ज्ञान अमृत को पीने से ही हम देवी देवता बनते हैं| यह झांकी अत्याधुनिक वैज्ञानिक तकनीक एवं आध्यात्मिकता का अनुपम संगम है| यह सभी के लिए निशुल्क रूप से प्रातः 10:00 बजे से शाम 9:00 बजे तक खुली हुई है| इसके साथ ही सत्यम शिवम सुंदरम मेले में भारी संख्या में लोगों का आवागमन जारी है | लोग परमात्मा शिव द्वारा दिए जा रहे निशुल्क ज्ञान एवं राजयोग को जानकर खुशी जताते हैं |आम जनमानस के लिए मेले में ही 1 घंटे के त्रि दिवसीय राज योग शिविर का आयोजन भी किया गया है जो प्रातः 7:00 से 8:00 बजे तथा सायं 5:00 से 6:00 तक अनवरत रूप से जारी है |